Abhi Alavidaa Mat Kaho Lyrics in Hindi & English

Song Name : Abhi Alavidaa Mat Kaho
Album / Movie : Nikaah 1982
Star Cast : Raj Babbar, Deepak Parashar, Salma Agha
Singer : Mahendra Kapoor
Music Director : Ravi Shankar Sharma (Ravi)
Lyrics by : Hasan Kamal
Music Label : Saregama

Abhi Alavidaa Mat Kaho Lyrics in Hindi

अभी अलविदा मत कहो दोस्तों
न जाने फिर कहाँ मुलाक़ात हो
न जाने फिर कहाँ मुलाक़ात हो
क्योकि

बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी
बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी
ख़्वाबों में ही हो चाहे मुलाक़ात तो होगी
बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी
ख़्वाबों में ही हो चाहे मुलाक़ात तो होगी
बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी

ये प्यार ये डूबी हुई रंगीन फ़िज़ाए
ये प्यार ये डूबी हुई रंगीन फ़िज़ाए
ये चहरे ये नज़ारे ये जवान रुत ये हवाए
हम जाए कही इनकी महक साथ तो होगी
हम जाए कही इनकी महक साथ तो होगी
बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी
ख़्वाबों में ही हो चाहे मुलाक़ात तो होगी

फूलो की तरह दिल में बसाए हुए रखना
फूलो की तरह दिल में बसाए हुए रखना
यादो के चिरागों को जलाए हुए रखना
लम्बा है सफ़र इस में कही रात तो होगी
लम्बा है सफ़र इस में कही रात तो होगी
ख़्वाबों में ही हो चाहे मुलाक़ात तो होगी
बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी

ये साथ गुज़ारे हुए लम्हात की दौलत
ये साथ गुज़ारे हुए लम्हात की दौलत
जज़्बात की दौलत ये ख़यालात की दौलत
कुछ पास न हो पास ये सौगात तो होगी
कुछ पास न हो पास ये सौगात तो होगी
बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी
ख़्वाबों में ही हो चाहे मुलाक़ात तो होगी
बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी
बीते हुए लम्हों की कसक साथ तो होगी.

Abhi Alavidaa Mat Kaho Lyrics in English

Abhi alavidaa mat kaho dosto
Na jaane phir kahaan mulaaqaat ho
Na jaane phir kahaan mulaaqaat ho, kyoki
Kyoki

Bite hue lamho ki kasak saath to hogi
Bite hue lamho ki kasak saath to hogi
Khvaabo me hi ho chaahe mulaaqaat to hogi
Bite hue lamho ki kasak saath to hogi
Khvaabo me hi ho chaahe mulaaqaat to hogi
Bite hue lamho ki kasak saath to hogi

Ye pyaar ye dubi hui rangin fizaae
Ye pyaar ye dubi hui rangin fizaae
Ye chahare ye nazaare ye javaan rut ye havaae
Ham jaae kahi inaki mahak saath to hogi
Ham jaae kahi inaki mahak saath to hogi
Bite hue lamho ki kasak saath to hogi
Khvaabo me hi ho chaahe mulaaqaat to hogi

Phulo ki tarah dil me basaae hue rakhanaa
Phulo ki tarah dil me basaae hue rakhanaa
Yaado ke chiraago ko jalaae hue rakhanaa
Lambaa hai safar is me kahi raat to hogi
Lambaa hai safar is me kahi raat to hogi
Khvaabo me hi ho chaahe mulaaqaat to hogi
Bite hue lamho ki kasak saath to hogi

Ye saath guzaare hue lamhaat ki daulat
Ye saath guzaare hue lamhaat ki daulat
Jazbaat ki daulat ye khayaalaat ki daulat
Kuchh paas na ho paas ye saugaat to hogi
Kuchh paas na ho paas ye saugaat to hogi
Bite hue lamho ki kasak saath to hogi
Khvaabo me hi ho chaahe mulaaqaat to hogi
Bite hue lamho ki kasak saath to hogi
Bite hue lamho ki kasak saath to hogi.

Leave a Comment